My Tax & Diary

Go to
  • Hanuman Chalisa   Durga Chalisa    Shiv Chalisa
  • Sankatmochan Hanumanashtak   Gita Saar
  • Jyotirlinga Temple of Shiva      Daily Praying Mantras
  • Ganesh-Aarti    Lakshmiji Aarti    Durga Aarti
  • Shiv Aarti    Om Jai Jagdish Hare
  • Sai Baba Sayings    Your Glorious Mother
  • Go to
  • Hanuman Chalisa   Durga Chalisa    Shiv Chalisa    Sankatmochan Hanumanashtak
  • 12 Jyotirlinga Temple of Shiva    Gita Saar      Daily Praying Mantras
  • Ganesh-Aarti    Lakshmiji Aarti    Durga Aarti    Shiv Aarti    Om Jai Jagdish Hare
  • Sai Baba Sayings    Your Glorious Mother
  • GITA SUMMARY (गीता सार)

    • अतीत में जो कुछ भी हुआ, वह अच्छे के लिए हुआ, जो कुछ हो रहा है, अच्छा हो रहा है, जो भविष्य में होगा, अच्छा ही होगा. अतीत के लिए मत रोओ, अपने वर्तमान जीवन पर ध्यान केंद्रित करो , भविष्य के लिए चिंता मत करो
    • (Whatever happened in the past, it happened for the good; Whatever is happening, is happening for the good; Whatever shall happen in the future, shall happen for the good only. Do not weep for the past, do not worry for the future, concentrate on your present life.)
    • जन्म के समय में आप क्या लाए थे जो अब खो दिया है? आप ने क्या पैदा किया था जो नष्ट हो गया है? जब आप पैदा हुए थे, तब आप कुछ भी साथ नहीं लाए थे. आपके पास जो कुछ भी है, आप को इस धरती पर भगवान से ही प्राप्त हुआ है. आप इस धरती पर जो भी दोगे, तुम भगवान को ही दोगे. हर कोई खाली हाथ इस दुनिया में आया था और खाली हाथ ही उसी रास्ते पर चलना होगा. सब कुछ केवल भगवान के अंतर्गत आता है.
    • (What did you bring at the time of birth, that you have lost? What did you produce, which is destroyed? You didn't bring anything when you were born. Whatever you have, you have received it from the God only while on this earth. Whatever you will give, you will give it to the God. Everyone came in this world empty handed and shall go the same way. Everything belongs to God only.)
    • आज जो कुछ आप का है, पहले किसी और का था और भविष्य में किसी और का हो जाएगा. परिवर्तन संसार का नियम है.
    • (Whatever belongs to you today, belonged to someone else earlier and shall belong to some one else in future. Change is the law of the universe.)
    • आप एक अविनाशी आत्मा हैं और एक मृत्युमय शरीर नहीं है. शरीर पांच तत्वों से बना है - पृथ्वी, अग्नि, जल, वायु और आकाश। एक दिन शरीर इन तत्वों में लीन हो जाएगा.
    • (You are an indestructible Soul & not a body. Body is composed of five elements - Earth, Fire, Water, Air and Sky; one day body shall perish in these elements.)
    • आत्मा अजन्म है और कभी नहीं मरता है. आत्मा मरने के बाद भी हमेशा के लिए रहता है. तो क्यों व्यर्थ की चिंता करते हो? आप किस बात से डर रहे हैं? कौन तुम्हें मार सकता है?
    • (Soul lives forever even after death as soul is never born & never dies. So Why do you worry unnecessarily? What are you afraid of? Who can kill you?)
    • केवल सर्वशक्तिमान ईश्वर के लिए अपने आप को समर्पित करो. जो भगवान का सहारा लेगा, उसे हमेशा भय, चिंता और निराशा से मुक्ति मिलेगी.
    • (Devote yourself to the Almighty God only. One who takes the support of God, always gains freedom from fear, worry and despair.)
    • अतीत में जो कुछ भी हुआ, वह अच्छे के लिए हुआ, जो कुछ हो रहा है, अच्छा हो रहा है, जो भविष्य में होगा, अच्छा ही होगा. अतीत के लिए मत रोओ, अपने वर्तमान जीवन पर ध्यान केंद्रित करो , भविष्य के लिए चिंता मत करो
    • (Whatever happened in the past, it happened for the good; Whatever is happening, is happening for the good; Whatever shall happen in the future, shall happen for the good only. Do not weep for the past, do not worry for the future, concentrate on your present life.)
    • जन्म के समय में आप क्या लाए थे जो अब खो दिया है? आप ने क्या पैदा किया था जो नष्ट हो गया है? जब आप पैदा हुए थे, तब आप कुछ भी साथ नहीं लाए थे. आपके पास जो कुछ भी है, आप को इस धरती पर भगवान से ही प्राप्त हुआ है. आप इस धरती पर जो भी दोगे, तुम भगवान को ही दोगे. हर कोई खाली हाथ इस दुनिया में आया था और खाली हाथ ही उसी रास्ते पर चलना होगा. सब कुछ केवल भगवान के अंतर्गत आता है.
    • (What did you bring at the time of birth, that you have lost? What did you produce, which is destroyed? You didn't bring anything when you were born. Whatever you have, you have received it from the God only while on this earth. Whatever you will give, you will give it to the God. Everyone came in this world empty handed and shall go the same way. Everything belongs to God only.)
    • आज जो कुछ आप का है, पहले किसी और का था और भविष्य में किसी और का हो जाएगा. परिवर्तन संसार का नियम है.
    • (Whatever belongs to you today, belonged to someone else earlier and shall belong to some one else in future. Change is the law of the universe.)
    • आप एक अविनाशी आत्मा हैं और एक मृत्युमय शरीर नहीं है. शरीर पांच तत्वों से बना है - पृथ्वी, अग्नि, जल, वायु और आकाश। एक दिन शरीर इन तत्वों में लीन हो जाएगा.
    • (You are an indestructible Soul & not a body. Body is composed of five elements - Earth, Fire, Water, Air and Sky; one day body shall perish in these elements.)
    • आत्मा अजन्म है और कभी नहीं मरता है. आत्मा मरने के बाद भी हमेशा के लिए रहता है. तो क्यों व्यर्थ की चिंता करते हो? आप किस बात से डर रहे हैं? कौन तुम्हें मार सकता है?
    • (Soul lives forever even after death as soul is never born & never dies. So Why do you worry unnecessarily? What are you afraid of? Who can kill you?)
    • केवल सर्वशक्तिमान ईश्वर के लिए अपने आप को समर्पित करो. जो भगवान का सहारा लेगा, उसे हमेशा भय, चिंता और निराशा से मुक्ति मिलेगी.
    • (Devote yourself to the Almighty God only. One who takes the support of God, always gains freedom from fear, worry and despair.)










    HomeContactPrivacy